Babies Dental Care: छोटे बच्चों के दांतो की देखभाल कैसे करें – जानिए छोटे बच्चों के दांत खराब होने पर क्या करें ?

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp
Babies Dental Care: छोटे बच्चों के दांतो की देखभाल कैसे करें – जानिए छोटे बच्चों के दांत खराब होने पर क्या करें ?


हमें बचपन से ही अपने बच्चों के दांतो का ख्याल (Babies Dental Care)बड़ी ही सावधानी से रखना पड़ता है, क्योंकि बचपन से ही अगर हम बच्चों के दांतो पर ध्यान देंगे, तो जब वह बड़े होंगे तो उनके दांत दूसरे बच्चों की अपेक्षा काफी मजबूत होंगे बहुत से बच्चों के दांत बचपन में ही खराब होने लगते हैं उसका कारण सिर्फ यही है कि उनके माता-पिता अपने बच्चों के दांतो का ख्याल नहीं रख पाते जिसकी वजह से कम उम्र में ही उनके दांत खराब होने लगते हैं।

हमें अपने बच्चों को बचपन से ही ऐसी आदत डालनी चाहिए कि वह बड़े होकर भी अपने दांतो (Babies Dental Care) का पूरा ख्याल रख सकें। क्योंकि दांत हमारे शरीर का अहम हिस्सा है जिसके बिना हम खाने-पीने के भी मोहताज हो जाते हैं। यदि हमारे दांत स्वस्थ हैं तो हम सख्त से सख्त खाना भी आसानी से खा पाते हैं। हम सभी इस बात को तो अच्छी तरह जानते हैं कि यदि हम अपने बच्चों के दांत बचपन से ही साफ नहीं रखेंगे, तो इसके कारण उन्हें अनेकों प्रकार की बीमारियां भी लग सकती हैं ज्यादातर हर एक बीमारी की शुरुआत मुंह की गंदगी से ही शुरू होती हैं।

यदि हम मुंह में ही गंदगी ना रहने दें तो बच्चा बड़ा होकर भी स्वस्थ रहेगा। इसलिए आपको Baby Teeth Care Tips In Hindi के बारे में अच्छी तरह पता होना आवश्यक है तभी आप उनके दांतों को स्वस्थ बना कर रख सकते हैं।

Table Of Content Babies Dental Care in Hindi

आज इस पोस्ट के माध्यम से हम यही सब जानने वाले हैं कि Bacho Ke Danto Ka Khayal Kaise Rakhe (Babies Dental Care) तथा Bacho Ke Danto Ko Majboot Kaise Banaye (Babies Dental Care) इसी के साथ साथ हम आपको How To Prevant Baby’s Teeth From Germs In Hindi तथा Danto Me Kida Lagne Ke Gharelu Upay In Hindi के बारे में भी विस्तार से बताएंगे ताकि आप अपने बच्चों के दांत बचपन से ही स्वस्थ रख सकें।

Babies Dental Care: छोटे बच्चों के दांतो की देखभाल कैसे करें – जानिए छोटे बच्चों के दांत खराब होने पर क्या करें ?

बच्चों को दांत कब आने शुरू होते हैं – When do Babies start Teething In Hindi ?

वैसे तो हर एक बच्चे की अपने शरीर का अलग-अलग हिसाब होता हैं, लेकिन फिर भी छोटे बच्चों के जन्म के पश्चात 6 से 10 महीने के अंदर अंदर उनके दूध के दांत उगने शुरू हो जाते हैं और लगभग 3 साल की उम्र तक बच्चे के सारे दांत आ जाते हैं लेकिन यह दूध के दांत ऐसे होते हैं जो एक बार जरूर टूटते हैं, क्योंकि दूध के दांत टूटने के पश्चात ही बच्चे के पक्के दांत आप आते हैं।

लेकिन जब बच्चे के दूध के दांत आते हैं तो तब भी हमें उनके दांतो का पूरा ख्याल रखना पड़ता है और उनके मुंह की सफाई करनी पड़ती है क्योंकि यदि हम उनके दांतों को साफ नहीं करेंगे, तो उनके मुंह में बचपन से ही बदबू रहनी शुरू हो जाएगी जिसकी वजह से उनके दांतों में बीमारियां भी लग सकती हैं, इसीलिए बचपन से ही दांतों की देखभाल जरूरी होती हैं। ऐसी बहुत सी Teeth Care Tips In Hindi (Babies Dental Care) है जिनकी सहायता से हम अपने बच्चे के दांतो को पूरी तरह से मजबूत बना कर रख सकते हैं।

बच्चों के दांतों की देखभाल कैसे करें – Babies Dental Care In Hindi

बच्चों के दांतों की देखभाल करने के ऐसे बहुत से तरीके हैं जिनसे आप उनके दांतो को हमेशा के लिए स्वस्थ बना कर रख सकते हैं जैसे कि :-

1. टूथब्रश से करने की आदत डालें

आप तो बचपन से ही अपने बच्चों को टूथपेस्ट करने की आदत डालनी चाहिए यदि वह रोजाना दूध ब्रश करते हैं, तो इस प्रकार उनके दांतों में फंसा हुआ खाना पूरी तरह से निकल जाता है और उनके मुंह में बैक्टीरिया भी नहीं पनपते ज्यादातर बच्चों के दांत बचपन में इसीलिए खराब होते हैं क्योंकि वह तो ब्रश नहीं करते यदि आप बचपन से ही बच्चों को दूध ब्रश करने की आदत डाल देते हैं, तो फिर वह बड़े होकर भी ठीक इसी प्रकार टूथ ब्रश करेंगे जिससे कि उनके दांतों की सुरक्षा बढ़ जाएगी यह एक बेहतरीन (Babies Dental Care) विकल्प है।

AB Phylline Capsule: AB Phylline इस्तेमाल फायदे नुकसान एवं खुराक | AB Phylline Capsule Best Uses, 16 Side Effects, Doses In Hindi

2. खाना खाने के पश्चात उनके दांतो को अच्छी तरह साफ करें

जब आपके बच्चे छोटे होते हैं तो वह अपने दांतो को सुरक्षित रखने के लिए उन तरीकों को नहीं अपना सकते इसीलिए आपको ही उनके दांतो का ख्याल रखना पड़ता हैं। जब आपके बच्चे खाना खाते हैं तो खाना खाने के पश्चात आपको उन्हें स्टूल पर बिठाकर उनके दांतो को टूथ ब्रश की सहायता से अच्छी तरह साफ करना चाहिए ताकि उनके मुंह में थोड़ा सा भी खाना ना बचे

यदि उनके मुंह में खाना रह जाता हैं, तो उसके कारण उनके मुंह में बदबू आने शुरू हो जाती है और बदबू दांतों की बीमारी का ही संकेत होती है खाना खाने के पश्चात बच्चे के दांतो को साफ नहीं करेंगे, तो बच्चे के दांतो में बैक्टीरिया जन्म ले लेंगे जो कि धीरे-धीरे उनके दांतों को खराब करना शुरू कर देंगे।

3. रात को सोने से पहले दांतो को जरूर साफ करें

रात के समय बच्चे के दांतो को साफ करना वह भी आवश्यक होता हैं, क्योंकि ज्यादातर बैक्टीरिया रात के समय ही बच्चे के दांतो पर हमला करते हैं और दांतो को खराब कर देते हैं। इसलिए आपको रोज रात को बच्चे को सुलाने से पहले उसे टूथपेस्ट करवाना चाहिए ताकि उसके मुंह में मौजूद सभी बैक्टीरिया नष्ट हो जाएं। यदि इस प्रकार आप बच्चे के दांत रोज रात को साफ करेंगे तो आपके बच्चे के दांत (Babies Dental Care) हमेशा ही स्वस्थ रहेंगे।

4. बच्चे की उम्र का ख्याल रखें

अगर आपका बच्चा 2 साल की उम्र से कम हैं, तो आपको उसके दांतो को साफ करने के लिए बच्चों वाले कुत्ते का इस्तेमाल करना चाहिए या फिर गुनगुने पानी से टूथब्रश की सहायता से हल्के हाथों से अपने बच्चे के दांत साफ करने चाहिए। यदि आप तेज हाथ से बच्चों के दांत साफ करेंगे तो उनके मसूड़ों को भी नुकसान पहुंच सकता है इसीलिए बिल्कुल हल्के हाथों से बच्चे के दांतों को साफ करें।

5. फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का इस्तेमाल करें

यदि आपका बच्चा 3 से 4 साल की उम्र का है तो आपको उसके दांतो की अच्छी सुरक्षा के लिए फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट का इस्तेमाल करना चाहिए। आपको अपने बच्चे को दिन में कम से कम 2 बार एक बार सुबह और एक बार रात को सोने से पहले फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट से टूथपेस्ट करवाना चाहिए, क्योंकि फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट आपके बच्चे के मुंह में उपस्थित सभी बैक्टीरिया को बड़ी ही आसानी से नष्ट कर देता है और इस प्रकार बच्चा अनेकों प्रकार की बीमारियों से भी बचा रहता है और उसके दांत में कीड़े लगने का खतरा भी नहीं रहता इसलिए अपने बच्चे के दांतो की अच्छी सुरक्षा के लिए फ्लोराइड युक्त टूथपेस्ट को लेकर आएं।

Babies Dental Care: छोटे बच्चों के दांतो की देखभाल कैसे करें – जानिए छोटे बच्चों के दांत खराब होने पर क्या करें ?

बच्चों के दांत किस वजह से खराब हो सकते हैं – What Can Cause Teeth Loss In children In Hindi ?

बचपन में बहुत सी ऐसी चीजें होती हैं जिनकी वजह से आपके बच्चों के दांत पूरी तरह खराब हो सकते हैं। इसलिए आपको अपने बच्चों के दांतो की अच्छी देखभाल (Babies Dental Care) के लिए बचपन से ही इन चीजों का ख्याल रखना चाहिए जैसे कि :-

1. ज्यादा मीठा

अगर आप अपने बच्चों को बचपन में ज्यादा मीठा खाना खिलाते हैं तो इसकी वजह से भी उनके दांतों में कीड़े लग सकते हैं जैसे कि बहुत सी माताएं बच्चों को ज्यादा मीठा दूध पिलाती हैं या फिर उन्हें बचपन में चॉकलेट कैंडी या फिर और भी बहुत सी मीठी चीजें होती हैं जो बच्चों के दांतों को खराब कर सकती है बचपन से ही बच्चों को ऐसी आदत डालें ज्यादा मीठा खाना पसंद ना हो, क्योंकि ज्यादा मीठा खाने से 100 में से 80 बच्चों के दांत खराब हो ही जाते हैं, इसलिए आपको बचपन से ही बच्चों को मीठा कम खिलाना होगा।

2. ज्यादा गर्म खाना

अगर आप अपने बच्चों को ज्यादा गर्म खाना खिलाती हैं, तो उसके कारण भी उन्हें अपने दांतों में झनझनाहट महसूस हो सकती है जिसकी वजह से उनके दांतो की जड़ें भी कमजोर हो सकती हैं इसलिए आपको अपने बच्चों को बचपन में ज्यादा गर्म खाना नहीं खिलाना चाहिए, उन्हें सामान्य खाना ही खिलाना चाहिए ताकि उनके साथ स्वस्थ रह सकें।

3. ठंडी चीजें खाने या पीने से

अगर हम अपने छोटे बच्चों को बचपन में ज्यादा ठंडी चीजें खाने का पीने के लिए देते हैं तो उसके कारण भी उनके दांत खराब होने लगते हैं, क्योंकि ज्यादा ठंडा खाने से बच्चों के दांतो की जड़े कमजोर हो जाती है जिसकी वजह से कुछ समय के पश्चात उनके दांत टूट टूट कर गिरने लगते हैं। इसलिए आपको अपने बच्चों को ज्यादा ठंडा पानी ही नहीं पिलाना चाहिए या फिर ठंडा जूस नहीं पिलाना चाहिए। इसके अतिरिक्त और भी बहुत सी चीजें होती हैं जो यदि आप अपने बच्चों को ठंडी खिलाते हैं, तो उनके कारण बच्चों के दांत खराब हो सकते हैं।

4. कोल्ड ड्रिंक पिलाने से

कुछ माता पिता बचपन में ही अपने बच्चों को कोल्ड ड्रिंक पीने की आदत डाल देते हैं जिसकी वजह से जब वह बड़े होते हैं तो उनके दांत पूरी तरह खराब होने लगते हैं। आपको पता होना चाहिए कि कोल्ड ड्रिंक को बनाने के लिए अलग-अलग प्रकार के केमिकल का इस्तेमाल होता है और वह केमिकल बच्चे के दांतो के साथ-साथ उसके स्वास्थ्य तथा लीवर के लिए भी बिल्कुल अच्छे नहीं होते, इसीलिए आपको अपने बच्चों को कभी भी कोल्ड ड्रिंक पीने के लिए नहीं देनी चाहिए

 यदि वह कोल्ड ड्रिंक मांगते भी हैं, तो आपको अपने घर पर ही उन्हें किसी प्रकार का शरबत बना कर दे देना चाहिए जिससे कि उन्हें ऐसा लगे कि वह कोल्ड ड्रिंक पी रहे हैं। हमारे देश में हर साल करोड़ों बच्चों के दांत सिर्फ कोल्ड ड्रिंक पीने की वजह से ही खराब होते हैं।

5. बाजार का खाना खिलाने से

अगर आप अपने बच्चे को बाजार का ज्यादा खिलाते हैं, तो बाजार का खाने के कारण भी आपके बच्चे के दांत खराब हो सकते हैं। आपको इस बात का तो पता ही होगा कि बाजार के खाने को अधिक को आदेश बनाने के लिए उसमें अलग-अलग प्रकार के मसाले इस्तेमाल होते हैं और उन मसालों में भी केमिकल होता हैं। यदि आप अपने बच्चे को बाजार का खिलाएंगे तो धीरे-धीरे आपके बच्चे के दांतो की जड़ें कमजोर होने लगेगी और उसे मसूड़ों से संबंधित बीमारियां भी होने लगेगी। इसलिए आपको अपने बच्चों को अपने घर पर बना साधारण भोजन ही देना चाहिए ताकि उनके दांत हमेशा ही स्वस्थ रह सकें।

6. ज्यादा नमक की चीजें खिलाने से

अगर आप अपने बच्चों को कुछ ऐसी चीजें ज्यादा खिलाते हैं जिनमें नमक काफी ज्यादा होता है तो इस प्रकार भी आपके बच्चों के दांत खराब हो सकते हैं, क्योंकि नमक की अधिक मात्रा भी बच्चों के दांतो की जड़ें कमजोर करती हैं। इसलिए आपको अपने बच्चे को कम नमक या फिर मध्यम नमक वाली चीजें खिलानी चाहिए ताकि उसके दांत बिल्कुल स्वस्थ रहें।

7.  दांतों को साफ ना करना

जो माता-पिता खाना खाने के पश्चात या फिर रात को सोने से पहले अपने बच्चे हो के दांतो को अच्छी तरह साफ नहीं करते तो इस प्रकार के बच्चों के दांत भी कम उम्र में ही खराब होने लगते हैं, क्योंकि जब दिनभर का खाना बच्चों के दांतों के बीच में फंसा रहता हैं, तो उसने अनेकों प्रकार के व्यक्ति रिया जन्म ले लेते हैं और यही बैक्टीरिया आपके बच्चों के दांत खराब करने का कारण भी बनते हैं।

इसीलिए आपको अपने बच्चों के दांत बचपन में पूरी तरह से साफ करने चाहिए और उन्हें खुद भी ऐसी आदत डालनी चाहिए कि यदि आप उनके दांत साफ नहीं करते तो भी वह खुद ही आपको इस बात को याद दिलाएं कि आपको उनके दांत साफ करने हैं बच्चा बचपन में वही करता हैं, जो हम उसे सिखाते हैं यदि हम उसे बचपन से ही ऐसी आदत डालते हैं कि उसे अपने दांत साफ करके ही सोना हैं, तो वह अपने दांतो के प्रति काफी जागरूक रहेगा।

8. बच्चों के खिलौनों को साफ ना करना

बचपन में ज्यादातर बच्चों को अपने खिलौनों को या अपनी पसंदीदा चीजों को मुंह में डालने की आदत होती है, अगर आप अपने बच्चों को सभी खिलौने साफ करने के पश्चात ही दें तो इस प्रकार भी आपके बच्चे के दांत सही रह सकते हैं। आपको इस बात का तो पता ही होना चाहिए कि यदि आपके बच्चे के खिलौने पूरी तरह साफ नहीं होंगे तो उसके कारण आपके बच्चों के दांत तो खराब होते ही हैं

उसी के साथ साथ आपके बच्चे का स्वास्थ्य भी खराब हो सकता हैं, क्योंकि खिलौनों पर जो बैक्टीरिया जमीन होंगे वह जब बच्चे के मुंह में प्रवेश करेंगे तो दांतों के साथ-साथ शरीर के बाकी अंगों को भी प्रभावित करेंगे। इसीलिए आपको अपने बच्चों के खिलौनों को अच्छी तरह से साफ करना चाहिए।

9. नींद की कमी के कारण

बचपन में बच्चों को पर्याप्त मात्रा में नींद चाहिए होती है। यदि आपके बच्चे पर्याप्त मात्रा में नींद नहीं लेते और वह ज्यादा से ज्यादा समय तक जागते हैं तो उसके कारण भी बच्चों के दांत खराब हो सकते हैं। इसलिए आपको अपने बच्चों को पर्याप्त मात्रा में सुलाना भी चाहिए।

10. पेंसिल चबाने की आदत से

कुछ बच्चे जब 3 से 4 साल की उम्र में पहुंचते हैं और उनके माता-पिता उनका स्कूल में दाखिला करवाते हैं, तो वह जिस पेंसिल का इस्तेमाल अपनी पढ़ाई लिखाई के लिए करते हैं उसे ही वह बच्चे मुंह में लेकर चलने लगते हैं। अगर बच्चे इस प्रकार पेंसिल को मुंह में लेकर जागते रहते हैं तो इस तरह भी उनके दांत काफी जल्दी खराब हो जाते हैं, इसलिए आपको अपने बच्चों की है आदत है जल्दी छुड़वानी होगी।

11. कैल्शियम की कमी होना

अगर आपके बच्चों के शरीर में कैल्शियम की कमी हो गई हैं, तो कैल्शियम की कमी के कारण भी आपके बच्चों के दांत खराब होने लगते हैं और दांत कमजोर भी होने लगते हैं इसलिए आपको अपने बच्चों के शरीर में कैल्शियम की कमी नहीं होने देनी चाहिए ।

Babies Dental Care: छोटे बच्चों के दांतो की देखभाल कैसे करें – जानिए छोटे बच्चों के दांत खराब होने पर क्या करें ?
Image Source:- Canva

बच्चों के दांतों को मजबूत करने के लिए क्या खिलाए – What to Feed Children to Strengthen Their Teeth In Hindi ?

बच्चों के दांतो को मजबूत बनाने के लिए एक सही पोस्टिक आहार की भी आवश्यकता पड़ती हैं, क्योंकि बच्चे जो खाते हैं उसे भी उनके दांतो की मजबूती पर काफी फर्क पड़ता हैं। इसलिए आपको अपने बच्चे को पौष्टिक आहार का सेवन करवाना होगा जैसे कि :-

1. दूध

आपको अपने बच्चों को अधिक से अधिक मात्रा में दूध का सेवन करवाना चाहिए, क्योंकि दूध में कैल्शियम की मात्रा काफी अधिक होती है जिससे कि आपके बच्चे के दांत काफी ज्यादा मजबूत बन जाते हैं इसके अतिरिक्त दूध में और भी जरूरी पोषक तत्व होते हैं, जो कि बच्चों के दांतो के लिए भी फायदेमंद होते हैं और उनकी दांतों की जड़ों को मजबूत बनाते हैं।

2. दालें

आपको अपने बच्चों को दालों का सेवन जरूर करवाना चाहिए, क्योंकि डाले दांतों की जड़ों को मजबूत बनाने के लिए बेहद फायदेमंद मानी जाती है इसके अतिरिक्त दालों में कैल्शियम की मात्रा भी होती हैं। इसीलिए आपको अपने बच्चों को दालों का अधिक से अधिक सेवन भी करवाना चाहिए आप अपने बच्चों को एक कटोरी दाल सूप की तरह भी पिला सकते हैं।

3. हरी सब्जियां

आपको अपने छोटे बच्चों को हरी सब्जियों का सेवन भी हफ्ते में तीन से चार बार जरूर कराना चाहिए, क्योंकि हरी सब्जियां बच्चों के विकास के लिए बेहद जरूरी होती है और हरी सब्जियों का सेवन लगातार करने के कारण बच्चों के दांतो को भी मजबूती मिलती हैं। इसीलिए हरी सब्जियों का सेवन करना बच्चों के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना गया है।

4. अंडा

अंडा भी दातों के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है इसलिए आप अपने बच्चों को रोजाना सुबह नाश्ते में अंडे का सेवन करवाइए। यदि आपका बच्चा 1 दिन में दो से तीन अंडे भी खाता है, तो भी उसके लिए यह भेज ही फायदेमंद है अंडे में कैल्शियम और फास्फोरस की मात्रा की पाई जाती है जो कि पौधों की जड़ों को भी मजबूत बनाती है।

5. ताजे फल

बच्चों के दांतो के लिए ताजे फल भी बेहद फायदेमंद माने गए हैं। यदि आप अपने बच्चों को सेब संतरा अनार इन तीन फलों को निरंतर खिलाते रहते हैं तो इस प्रकार उनके दांत बेहद मजबूत बन जाते हैं।

6. कच्चा प्याज

प्याज को औषधि के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता हैं, इसीलिए आप यदि अपने बच्चे को सलाद में खाने के साथ कच्चा प्याज खाने के लिए देते हैं तो कच्चा प्याज खाने से आपके बच्चे के दांत काफी स्वस्थ रहते हैं, क्योंकि कच्चे प्याज में ऐसे तत्व मौजूद होते हैं जो कि दांतों की जड़ों को मजबूत करते ही हैं और मसूड़ों को स्वस्थ रखते हैं। इसी के साथ साथ कैविटी को भी हमेशा के लिए खत्म कर देते हैं, इसीलिए कच्चे प्याज का सेवन बहुत ज्यादा आवश्यक है।

Conclusion –

बच्चों के दांतो की किस प्रकार सुरक्षा करनी चाहिए और उनके दांतो को कैसे ज्यादा लंबे समय तक बिल्कुल स्वस्थ रखना चाहिए इसके बारे में हमने आपको बता दिया हैं। इसी के साथ-साथ इस पोस्ट के माध्यम से आज हमने आपको Bacho Ke Danto Ka Khayal Kaise Rakhe तथा Bacho Ke Danto Ko Majboot Kaise Banaye इसके बारे में बताया है।

इसी के साथ साथ हमने आपको  How To Prevant Baby’s Teeth From Germs In Hindi तथा Danto Me Kida Lagne Ke Gharelu Upay In Hindi के बारे में भी बताया हैं। अब यदि आपको हमसे Healthy Food For Teeth In Hindi के बारे में पूछना हों, तो कमेंट सेक्शन में कमेंट करें। धन्यवाद

Share this post

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

Related Posts

B Long Tablet in Hindi | बी लांग टैबलेट किस काम आती है जानिए इसके फायदे, इस्तेमाल और नुक्सान की जानकारी हिंदी में |B Long Tablet Uses, Benefits, Side Effects in Hindi

B Long Tablet in Hindi | बी लांग टैबलेट किस काम आती है जानिए इसके फायदे, इस्तेमाल और नुक्सान की जानकारी हिंदी में |B Long Tablet Uses, Benefits, Side Effects in Hindi

B Long Tablet in Hindi | बी लांग टैबलेट किस काम आती है जानिए इसके फायदे, इस्तेमाल और नुक्सान की जानकारी हिंदी में |B Long Tablet Uses, Benefits, Side Effects in Hindi

Read More »
Walnuts in Hindi:  जानिए अखरोट खाने के फायदे एवं नुकसान साथ ही अखरोट को कब और कितनी मात्रा में इस्तेमाल करना चाहिए| Benefits of Walnut (Akhrot) in Hindi

Walnuts in Hindi:  जानिए अखरोट खाने के फायदे एवं नुकसान साथ ही अखरोट को कब और कितनी मात्रा में इस्तेमाल करना चाहिए| Benefits of Walnut (Akhrot) in Hindi

Post Views: 22 अखरोट के विषय में सम्पूर्ण जानकारी | Know About Walnuts in Hindi दोस्तों जैसे जैसे उम्र बढ़ती जाती है सेहत में गिरावट

Read More »
Karvol Plus Capsule: क्या है कारवोल प्लस कैप्सूल जानिए इसके इस्तेमाल और साइड इफेक्ट्स सम्पूर्ण जानकारी | What Karvol Plus Capsule know its uses Benefits and Side Effects in Hindi

Karvol Plus Capsule in Hindi: क्या है कारवोल प्लस कैप्सूल जानिए इसके इस्तेमाल और साइड इफेक्ट्स सम्पूर्ण जानकारी | What Karvol Plus Capsule know its uses Benefits and Side Effects in Hindi

Karvol Plus Capsule: क्या है कारवोल प्लस कैप्सूल जानिए इसके इस्तेमाल और साइड इफेक्ट्स सम्पूर्ण जानकारी | What Karvol Plus Capsule know its uses Benefits and Side Effects in Hindi

Read More »
ivecop-12 tablet uses in Hindi

Ivecop 12 Tablet in Hindi: इवेकोप 12 टैबलेट के फायदे इस्तेमाल एवं साइड इफ़ेक्ट की जानकरी | Ivecop 12 Tablet Uses, Benefits and Side Effects in Hindi  

Ivecop 12 Tablet in Hindi: इवेकोप 12 टैबलेट के फायदे इस्तेमाल एवं साइड इफ़ेक्ट की जानकरी | Ivecop 12 Tablet Uses, Benefits and Side Effects in Hindi  

Read More »
Benadon 40 mg uses in Hindi Benadon uses in Hindi Benadon in Hindi Benadon 40 mg uses in Hindi price Benadon 40 mg for erectile dysfunction Benadon 40 mg in Tuberculosis Benadon 40 mg price Benadon साइड इफेक्ट

Benadon 40 MG in Hindi : बेनाडोन 40 MG इस्तेमाल फायदे एवं नुकसान जानिए दवा की संपूर्ण जानकारी हिंदी में | what is Benadon 40 MG uses, Best Benefits and Worst Side Effects in Hindi

Benadon 40 MG: बेनाडोन 40 MG क्या है इस्तेमाल फायदे एवं इससे होने वाले नुकसान जानिए दवा की संपूर्ण जानकारी हिंदी में

Read More »
Mental Weakness : जानिए मानसिक कमजोरी क्या है एवं मानसिक कमजोरी को दूर करने के 26 घरेलू उपचार एवं उपाय | What is mental weakness and 26 home remedies to treat mental weakness in Hindi

Mental Weakness in Hindi: जानिए मानसिक कमजोरी क्या है एवं इसे दूर करने के 26 घरेलू उपचार एवं उपाय | What is mental weakness and Best 26 home remedies to treat mental weakness in Hindi

Mental Weakness in hindi जानिए मानसिक कमजोरी क्या है एवं मानसिक कमजोरी को दूर करने के 26 घरेलू उपचार एवं उपाय | What is mental weakness and 26 home remedies to treat mental weakness in Hindi

Read More »
Omee Tablet/ Capsule:  जानिए ओमी टेबलेट या कैप्सूल के उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां | Omee Tablet/ Capsule Know its 9 Side Effects, Precautions, Uses in Hindi  

Omee Tablet Capsule in Hindi:  जानिए ओमी टेबलेट या कैप्सूल के उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां | Omee Tablet Capsule Know its 9 Side Effects, Precautions, Uses in Hindi  

Omee Tablet/ Capsule:  जानिए ओमी टेबलेट या कैप्सूल के उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां | Omee Tablet/ Capsule Know its 9 Side Effects, Precautions, Uses in Hindi  

Read More »
Recent Posts